Rajnikanth (रजनीकांत)

0
25

रजनीकांत एक ऐसा नाम है शायद ही कोई नहीं जानता होगा रजनीकांत दक्षिण भारतीय फिल्मों के अभिनेता और सुपरस्टार है| लेकिन यह दक्षिण में ही नहीं बल्कि पूरे भारत में और हम यह कह सकते हैं कि वह पूरे विश्व में विख्यात है रजनीकांत अपने आप में एक ऐसी पहचान है जिनके बारे में जितना कहा जाए उतना ही कम है |

रजनीकांत जी का जन्म 12 दिसंबर 1950 में बेंगलुरु के मैसूर राज्य में हुआ था | जो आज का कर्नाटक कहलाता है इनके पिता जी का नाम रामोजी राव गायकवाड था| जो एक पुलिस कॉन्स्टेबल थे फॉरेन की माता जी का नाम जीजाबाई था उनकी एक बहन और तूफान भी थे जिनमें से यह सबसे छोटे थे| रजनीकांत जी की शुरुआती शिक्षा गवर्नमेंट मॉडल प्राइमरी कॉलेज से शुरू हुए उसके बाद उन्होंने फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट ऑफ तमिलनाडु में एक्टिंग का कोर्स किया रजनीकांत जी का पूरा नाम शिवाजीराव गायकवाड है |जिन्हें बहुत कम ही लोग इस नाम से पहचानते हैं|
रजनीकांत भारतीय सिनेमा में सबसे प्रभावशाली फिल्म स्टारों में से एक है रजनीकांत ने जिस तरीके से फिल्मी दुनिया में अपना सहयोग दिया है उसके लिए उन्हें भारत का तीसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्मभूषण मिला है इसके अलावा रजनीकांत पाठ कथा के लेखक फिल्म निर्माता और गायक भी है आज तक रजनीकांत ने कुल 190 फिल्मों में एक्टिंग का काम किया है जिनमें से कन्नड़ तेलुगू मलयालम हिंदी तमिल अंग्रेजी और बंगाली फिल्म में शामिल है| रजनीकांत का बॉलीवुड में आगमन अंधा कानून फिल्म के साथ हुआ था जिसमें वह अमिताभ बच्चन जी के साथ नजर आए थे| लेकिन यह फिल्म दक्षिण भारत में ज्यादा सफल नहीं रही

रजनीकांत का शुरुआती जीवन काफी संघर्षपूर्ण था उन्होंने अपने जीवन में कारपेंटर से लेकर कुली तक का काम किया और कुछ समय के बाद उन्होंने बीटीएस में बस कंडक्टर का काम भी किया लेकिन उन्होंने अपने हुनर को आगे बढ़ाने में कोई कमी नहीं की उसके बाद फिल्मी दुनिया मैं आगे बढ़ते ही रह गए रजनीकांत की फिल्म 1988 में ब्लडस्टोन जो एक हॉलीवुड मूवी थी जो बहुत कम सफल रहे उसके बाद 2007 में आई जैकी चैन जी के साथ एशियाई फिल्मों में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में से एक है उसके बाद उन्होंने शिवाजी द बॉस फिल्म के लिए उन्होंने 26 करोड़ लिए थे| 

रजनीकांत ने कई साड़ी सुपर हिट फिल्मे की जिनमे से –

2002 बाब, 2000 बुलन्दी ,2000 आगाज़,1997 क्रांतिकारी,1995 आतंक ही आतंक,1993 इंसानियत के देवता,1992 त्यागी,1992 चोर के घर चोरनी,1991 हमकुमान ,1991 फूल बने अंगारे ,1991 फरिश्ते , 1991 दलपतिसूर्या ,1991 खून का कर्ज़, 1990 किशन कन्हैया , 1989 भ्रष्टाचार, 1989 चालबाज़, 1988 तमाचा, 1987 उत्तर दक्षिण, 1986 भगवान दादा, 1986 दोस्ती दुश्मनी, 1986 असली नकली, 1985 वफ़ादार ,1985 महागुरु ,1985 बेवफ़ाईरणवीर ,1985 आज का दादा ,1984 मेरी अदालत ,1984 जॉन जानी जनार्दन ,1984 ज़ुल्म की ज़ंजीर ,1984 गंगवा ,1984 इंसाफ कौन करेगा ,1984 आखिरी संग्राम , 1983 अंधा कानून, 1980 राम रॉबर्ट रहीमराम, 1979 जॉनी,1978 प्रिया,1977 गायत्री,1976 मूंदरू मुदिचू|

रजनीकांत की शुरुआती फिल्मों में उन्होंने नकारात्मक चरित्र यानी विलेन के किरदार से शुरुआत की थी और फिर उसके बाद साइड रोल और आखिरकार हीरो के तौर पर उन्होंने अपना किरदार निभाया यह साबित करके दिखा दिया की उम्र उनकी जिंदगी को धीमे नहीं कर सकती ,जी हां जब वह 65 वर्ष की उम्र में थे तब उन्होंने शिवाजी द बॉस रोबोट कबाली जैसी सुपरहिट फिल्में दी रजनीकांत इतने बड़े सुपरस्टार होने के बाद भी अबे असल जिंदगी में काफी सामान्य व्यक्ति की तरह अपना जीवन व्यतीत करते हैं| वह दूसरे से आम लोगों की तरह ही बात करते हैं अपनी जिंदगी में वह धोती कुर्ता पहनते हैं | शायद इसलिए उनके प्रशंसक उन्हें प्यार करते नहीं बल्कि पूछते हैं 10 वर्ष की उम्र के बाद उन्होंने रोबोट टू जैसी फिल्में बनाई जो उनके फैंस के दिल को बधाई पर आने वाले समय में वे कई सारी फिल्मों में काम करते रहेंगे| 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here